एक बार फिर हमारे वेबसाइट में आपका स्वागत है। आज के इस लेख में हम गिलोय (Tinospora Cordifolia) के पौधे के बारे में बात करने वाले हैं। और इसी तरह गिलोय के फायदे और नुकसान की जानकारी प्रदान करने वाले हैं। जिससे आप आसानी से इस चमत्कारी पौधे से जबरदस्त फायदा उठा सकते हैं।

प्राचीन काल से ही गिलोय को चमत्कारी माना गया है। और इसका आयुर्वेद में भी उल्लेख है। आपको जानकर हैरानी होगी, लेकिन गिलोय में सभी तरह के रोगों को मिटाने की शक्ति है। जिस वजह से इसको अमृत्तुल्य वनस्पति माना जाता है। इस गिलोय के अंदर बहुत सारे शक्तियां मौजूद होती है। जो कि इंसान को उनके रोगों से लड़ने में काफी मददगार होती है।

आपको बता दें की गिलोय किसी भी पेड़ पर चढ़ जाता है, तो उसके गुण वह अपना लेता है। जैसे कि अगर गिलोय एक नीम के पेड़ के ऊपर चढ़ जाता है। तो वह नीम के सभी गुण को अपने अंदर समा लेता है। और नीम के पेड़ पर चढ़े हुए गिलोय को आमतौर पर सबसे उत्तम माना गया है।

जब से भारत के लोगों को इसका फायदा पता चला है। तब से बहुत सारे लोग अपने घरों में गिलोय के पौधे लगाने लगे हैं। इसके अलावा भारत में लोग ऐसे भी मौजूद हैं, जो कि गिलोय की सही पहचान नहीं कर पाते हैं। गिलोय की पत्तियां लगभग पान के पत्तों जैसी होती है। और इनका रंग बेहद गाढ़ा हरा होता है।

यह भी पढ़े: दही खाने के फायदे और नुकसान

इसके अलावा कुछ लोग अनजाने में भी अपने घर पर गिलोय के पौधे सजावट के लिए लगाते हैं। इसी तरह बहुत सारे लोग गिलोय को गुडूची और अमृता के नाम से भी जानते हैं। तो अब हम गिलोय के फायदे और नुकसान की जानकारी हासिल करते हैं।

गिलोय के फायदे

गिलोय के फायदे

1. डायबिटीज नियंत्रित करता है

गिलोय का सेवन करने से डायबिटीज नियंत्रित रहता है। और हमें गिलोय के जूस बनाकर पीना चाहिए। जिससे हमारे ब्लड शुगर के बढ़ते स्तर को यह कम करती है। इसी तरह यह इंसुलिन का स्त्राव भी बढ़ाती है। और रजिस्टेंस को कम करते हैं। इस वजह से बहुत सारे डायबिटीज के मरीज गिलोय का सेवन करते रहते हैं।

2. बुखार उतर जाता है

बुखार बहुत ही भयानक होता है। और जब किसी इंसान को बुखार आता है, तब वह बहुत तड़पता है। कई बार से रात को नींद भी नहीं आती है। लेकिन गिलोय का सेवन करने से स्वाइन फ्लू, डेंगू और मलेरिया जैसी गंभीर बीमारी से होने वाले बुखार से यह छुटकारा देता है। क्योंकि इसमें एंटीपायरेटिक गुण होते हैं।

3. पाचन क्रिया ठीक करता है

पाचन तंत्र हमारे शरीर का बहुत ही अहम हिस्सा होता है। और हमें हमेशा इसे ठीक रखना चाहिए। नहीं तो हमे गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन गिलोय पाउडर को आंवले के चूर्ण के साथ मिलाकर खाने से यह हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है।

4. आंखों की रोशनी बढ़ाना है

आमतौर पर मनुष्य को वात, पित्त और कफ से जुड़ी बीमारियां होती है। लेकिन गिलोय के रस के साथ आंवले को मिलाकर खाने से हमारी आंखों की रोशनी बढ़ती है। लेकिन हमें अन्य आंखों के संबंधित रोगों से भी यह दूर रखता है। और इस गिलोय को शामक औषधि भी माना गया है।

5. मोटापे से छुटकारा

आजकल बहुत सारे लोग मोटापे से परेशान हैं। लेकिन क्या आपको पता है गिलोय का ठीक तरह से सेवन करने से आपके जीवन से मोटापे जैसी गंभीर बीमारी दूर हो सकती है।

इसके लिए आपको एक चम्मच गिलोय के रस के साथ एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह और शाम को उसका सेवन करना होगा। जिसके बाद कुछ दिनों के बाद मैं आपके शरीर में कुछ बदलाव देखने को मिलेंगे। और तो और गिलोय का सेवन करने से आपके पेट के कीड़े भी मर जाते हैं।

6. इम्यूनिटी को बढ़ाता है

क्या आपको पता है गिलोय का सेवन करने से आपके किडनी और लीवर से विषाक्त पदार्थ को बाहर निकालता है। और इस वजह से इसको एंटीऑक्सीडेंट भी कहा जाता है। और इसी के साथ यह आपके शरीर के खून को भी साफ करता है। सबसे बड़ी बात यह है कि गिलोय से आपके इम्यूनिटी मजबूत होती है।

7. त्वचा के लिए गुणकारी

गिलोय के तने का पेस्ट बनाकर इससे अपने चेहरे पर लगाने से आपके चेहरे पर मौजूद कील मुंहासे और चकत्ते आदि को दूर करता है। इस वजह से बहुत सारे लोग अपने त्वचा को सुधारने के लिए गिलोय का हर दिन सेवन करते हैं। और यह सबसे अच्छा गिलोय के फायदे में से एक है।

गिलोय के नुकसान

गिलोय के नुकसान

1. निम्न रक्तचाप मरीजों के लिए खतरनाक

निम्न रक्तचाप या फिर जो ब्लड प्रेशर वाले मरीज होते हैं। उन्हें गिलोय का सेवन कभी भी नहीं करना चाहिए। क्योंकि गिलोय का सेवन करने से आपके शरीर का ब्लड प्रेशर तुरंत कम हो जाता है। और इस वजह से आपकी सेहत बिगड़ सकती है।

और तो और किसी भी प्रकार के सर्जरी से पहले भी गिलोय का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि तब ब्लड प्रेशर कम होने के कारण मुश्किले बहुत ज्यादा बिगड़ सकती है।

2. गर्भवती महिलाओं को परेशानी हो सकते हैं

गर्भावस्था के समय जो गर्भवती महिला होती है, या फिर जो स्तनपान कराने वाली महिला होती है। उसको कभी भी उस समय गिलोय का सेवन नहीं करना चाहिए।

3. ऑटोइम्यून बीमारियों का खतरा

ऑटोइम्यून बीमारी का खतरा तब बढ़ जाता है। जब हमारे शरीर में इम्यूनिटी बहुत ज्यादा सक्रिय होती है। और इम्यूनिटी गिलोय के सेवन से बहुत तेजी से मजबूत और सक्रिय हो जाती है। जिस वजह से हमें इस बीमारी का सामना करना पड़ सकता है।

मल्टीपल स्क्लेरोसिस और रूमेटाइड अर्थराइटिस ऑटोइम्यून के मुख्य रोग है। और इन रोगों से पीड़ित मरीजों को कभी भी गिलोय का सेवन नहीं करना चाहिए।

आज का घरेलू नुस्खा

गिलोय के घरेलू नुस्खे

अधिक मात्रा में गिलोय का सेवन करने से मुंह में छाले पड़ जाते हैं। इसके अलावा कभी भी हमें गिलोय के पत्ते का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि आमतौर पर लोग इसके डेंटल का ही प्रयोग करते हैं।

पानी में गिलोय के तने को घिसकर गुनगुना करें। इसके बाद दो-दो बूंद दिन में दो बार डालने से कान की गंदगी चली जाती है। और कान से जुड़ी बहुत सारी बीमारियों से हमें छुटकारा मिल सकता है।

तो दोस्तों यह है गिलोय के फायदे और गिलोय के कुछ नुकसान। अगर आप भी गिलोय का सही तरीके से प्रयोग करते हैं, तो आपको भी बहुत सारे रोगों से छुटकारा मिल सकता है। आशा करता हूं कि आपको यह पोस्ट जरूर पसंद आया होगा। कृपया अपने प्यारे दोस्तों के साथ इसे जरूर शेयर करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.